रात को ढाई बजे चची की चुदाई

1877

ढाई बजे रात को उठ के भतीजे गौरव ने अपनी चची शीला की छूट मरी. चाचा जी गहरी नींद में थे तब चची ने बहार के हॉल वाले हिस्से में भतीजे के लौड़े से अपनी छूट की गर्मी का इलाज करवा लिया. चची की परेशानी थी की चाचा जी अब छोड़ते नहीं थे. और घर में ये भतीजा था जो कुंवारा था और उसे लड़की नहीं मिल रही थी. तो दोनों एक दूसरे के बदन की ज़रूरतों को पूरा कर रहे हे. आज भतीजे ने चची को थोड़ी पोर्न भी दिखाई छोड़ने से पहले. फिर साड़ी को ऊपर कर के अपना लुंड बुर में उतर के मस्त छोड़ दिया. मस्त देसी ब्लू फिल्म के आप का लुंड भी कड़क हो जायेगा.