सरपंच ने झोपडी में बुर छोड़ी दिव्या भाभी की

4102

ाँगने में पावेर ब्लॉक लगवाने थे तो सरपंच से मिली दिव्या भाभी. और सरपंच ने काम के लिए हां तो किया लेकिन काम हुआ नहीं. एक दो बार मिली तो भाभी को लगा की ये कुछ लिए बिना मानेगा नहीं. तो देने के लिए छूट थी वो दे दी उसने सरपंच को. सरपंच जी इस गांव की भाभी को उसकी ही झोपडी में छोड़ रहा हे. आप भी देखे हवस से भरे हुए ठरकी सरपंच को इस भाभी को लिटा के लुंड का पूरा औज़ार अंदर दाल के पेलते हुए. छुड़वाते हुए भी भाभी ने पूछा की पावेर ब्लॉक लगवा डोज न? सरपंच बोलै हां मेरी रानी अब तू कहेगी वह पर लगवा दूंगा.